Home सामान्य कार्यशालायें ध्यान का प्रकाश
ध्यान का प्रकाश पीडीएफ़ मुद्रण ई-मेल
( 22 Votes )
द्वारा लिखित Administrator   
गुरुवार, 26 नवम्बर 2009 15:53

त्रिकास्थि हड्डी हर व्यक्ति मे एक रीढ़ का आधार है जहाँ मौजूद है आध्यात्मिक ऊर्जा का सूक्ष्म और निष्क्रिय जिसको कुंडलिनी के रूप मे जाना जाता है. यह ऊर्जा का प्रयोग सदियों से बहुत अच्छी तरह से किया जा रहा है और यह एक प्रमुख हिस्सा बन गया है औथोरेतितिव योग और अध्यात्मिक प्रथाओं का. AD१२९० में, उदाहरण के लिए, प्रसिद्ध भारतीय संत और म्य्स्तिक जननदेव ने अपने दस्तावेज मे विस्तार से अपने योग और आध्यात्मिक जगत पर लाभदायक ग्रंथ में ऊर्जा के अस्तित्व का वर्णन किया है.

दूसरे शब्दों में आत्मज्ञान की प्रक्रिया शामिल है रहन सहन और जागरूक ऊर्जा मे, इसलिये यह व्यक्ति की सूक्ष्म (यानी आध्यात्मिक) मे भी फैला है. एक वाक्या इस प्रकार है जब कोई व्यक्ति विश्व मे सबसे अलग हो जाता है और उसके आसपास कोई नही होता है अर्थात् वह अपने अंदर ही फंसा है पर तब भी वह ब्रह्मांड के हिस्से से जुड़ा हुआ है. इस जागरुकता के कई लाभ है,और इसमे शामिल है हमारी समझ के उद्देश्य के बारे में,पूर्णता का एक अहसास और आत्म - ज्ञान जो आमतौर से दिन प्रतिदिन हमारे जीवन और गतिविधियों से गायब हो रहा है.

 

आत्मज्ञान मे धर्म, संस्कृति, जाति, आयु, या लिंग की कोई सीमा नहीं है यह हर व्यक्ति की आत्मा के लिए खुद को प्राप्त करने के लिए है और हर व्यक्ति को जन्मसिद्ध अधिकार है एक संतुलित तरीके से जीवन जीने का. और वह सक्षम है आनंद और शांति का आनंद लेने में. खुद को दिव्य जागरूक करने के लिए और अनन्त व्यक्तित्व बनने के लिए. कुंडलिनी जागरण हमे हमारी आत्मा से जोड़ता है जो देखी और अनदेखी सब बातों का स्रोत है. यह आत्मा हमारे व्यक्तित्व की अनन्त पहलू है और जब हम पूरी तरह से इसके साथ अपनी पहचान बना लेते हैं,जैसे बुद्ध ने बनायी थी,तो हम भी बुद्ध की तरह बन जाते है, शाश्वत और पवित्र से भरा ज्ञान.

 

एक बार यह ज्ञान हुआ है,कि व्यक्ति द्वारा स्वय: यह तय किया जाये कि वह नई दुनिया का पता लगाकर उसके बारे मे सब बताए पर उसे ध्यान के माध्यम के साथ जारी रखने और सूक्ष्म सिस्टम पर ऊर्जा की सफाई शक्ति को प्रोत्साहित करे.

 

समय के साथ ध्यान का अभ्यास पैदा करता है भावुक गहरा, शारीरिक और आध्यात्मिक परिवर्तन जो हम सबको क्षमता देता है एक उल्लेखनीय डिग्री कि, जो नियंत्रण करता है हमारे जीवन की प्रगति को हर तरह से. कलाकार अक्सर भावनाओ की बात करते हैं 'एकता के साथ भगवान और प्रकृति की' जैसे नियमित रूप से एक्साथ ध्यान कि अभिव्यक्ति के रूप की.

LAST_UPDATED2
 

श्री माताजी

Shri Mataji Nirmala Devi

Upcoming Events

December 2017
S M T W T F S
26 27 28 29 30 1 2
3 4 5 6 7 8 9
10 11 12 13 14 15 16
17 18 19 20 21 22 23
24 25 26 27 28 29 30
31 1 2 3 4 5 6

Poll

What does Meditation do for you?
 
stack